जानिए आखिर कैसे शुरू हुई खेल में चीयरलीडर्स की ‘प्रथा’ , क्रिकेट में ऐसे हुई एंट्री

ipl cheerleaders

स्पोर्ट्स डेस्क। भारत में इन दिनों इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल 2019) का खुमार लोगों के सिर चढ़कर बोल रहा है। हर दिन आईपीएल के 12वें सीजन में चौके- छक्के, कैच, जबरदस्त फील्डिंग, बल्लेबाजी-गेंदबाजी का भरपूर मजा ले रहा है। आईपीएल में रोज क्रिकेटर्स तो चर्चा में रहते ही है उनके साथ-साथ खूबसूरत चीयरलीडर्स (Cheerleaders) भी सुर्खियां बटोर रही है। खूबसूरत चीयरलीडर्स अपनी अदाओं जादू बिखेरने में पीछे नहीं रह रही है। लेकिन क्या आपको पता है खेल में आखिर चीयरलीडर्स की ‘प्रथा’ कैसे शुरू हुई, तो चलिए जानते है इसका इतिहास-

अमेरिका ने की थी इसकी शुरुआतः
इस ‘प्रथा’को जन्म देने वाला अमेरिका है। यही नहीं वजह है कि खेलों में ज्यादातर अमेरिका मूल की लड़कियों का ही दबदबा रहता है। लेकिन इस प्रोफेशन में कई देशो की लड़कियां भी शामिल हो गई है। खबरों के अनुसार, इसकी शुरुआत सबसे पहले अमेरिका की मिनसोटा यूनिवर्सिटी में साल 1898 में एक फुटबॉल मैच के दौरान हुई। लेकिन इसमें चीयरलीडर्स कोई महिला ने नहीं बल्कि एक पुरुष ने निभाया था। साल 1923 तक इस प्रोफेशन में हिस्सा सिर्फ लड़के ही लिया करते थे, जब लड़को की मांग कम होने लगी तो इसमें महिलाएं हिस्सा लेने लगीं और आज भी इसमें महिलाओं का ही बोलबाला है।

cheerleaders

क्रिकेट में ऐसे हुई शुरुआतः
क्रिकेट में चीयरलीडर्स की पहली झलक दक्षिण अफ्रीका में हुए टी-20 वर्ल्ड कप के दौरान दिखने को मिली थी, उसके बाद अब आईपीएल में चीयरलीडर्स पूरी तरफ से दुनिया भर में छा गई।

ऐसे चुनी जाती है चीयरलीडर्स:
इस प्रोफेशनल में महिलाएं अपने काम के साथ-साथ गुड लुकिंग भी होनी चाहिए। चीयरलीडिंग के प्रोफेशन से जुड़ी लड़कियां कोरियोग्राफी और पढ़ाई के क्षेत्र में भी काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं। आपको बता दें, आईपीएल में ज्यादातर चीयरलीडर्स अमेरिका, ब्रिटेन, मैक्सिको, फ्रांस, ब्राजील, यूक्रेन और साउथ अफ्रीका से बुलाई जाती हैं।

cheerleaders

एक मैच के लेती है 6 से 12 हजार रुपये
अगर चीयरलीडर्स की सैलरी की बात करें तो ये एक मैच के करीब 6 से 12 हजार रुपये चार्च करती है। हालांकि ये भी हर टीम के मैनेजमेंट के हिसाब से ऊपर-निचे हो सकती है। खास बात यह भी है कि जिस टीम को चीयरलीडर्स सपोर्ट कर रही हैं और वो टीम जीतती है तो फिर उन्हें इनाम के तौर पर करीब 3 हजार रुपये अलग से मिलते हैं। इन सबके अलावा पार्टी, फोटोशूट के अलग से पैसे मिलते है।

2 thoughts on “जानिए आखिर कैसे शुरू हुई खेल में चीयरलीडर्स की ‘प्रथा’ , क्रिकेट में ऐसे हुई एंट्री”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *