डेविड वॉर्नर ने क्यों लिया टेस्ट और वनडे से संन्यास, जानिए वजह

0
89
David Warner
David Warner

क्रिकेट के “पुष्पा राज” कहे जाने वाले ऑस्ट्रेलिया के महान खिलाड़ी डेविड वॉर्नर (David Warner) ने टेस्ट और वनडे से संन्यास ले लिया है। वार्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ अपने करियर का अंतिम टेस्ट खेला और उन्होंने 75 गेंद में 57 रन बनाकर अपने शानदार करियर का अंत किया। आस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान पर आठ विकेट की जीत से सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप किया।

संन्यास के बाद क्या बोले वार्नर

वॉर्नर ने कहा, ‘‘इतने वर्षों में, मैं हर किसी का पसंदीदा खिलाड़ी नहीं रहा हूं. लेकिन मैंने जितना हो सके उतना अच्छा खेल खेला और टीम के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने की कोशिश की. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर मेरे पास फिर से यही समय होता और मुझे यह पता होता, तो मैं शायद थोड़ा और धैर्य दिखाता। ’’ वॉर्नर को आक्रामक खिलाड़ी के तौर पर देखा जाता है जो हमेशा छींटाकशी के लिए तैयार रहता।

वॉर्नर ने प्रेस में कहा कि, ” यह कुछ ऐसा था जो मैंने (2023) विश्व कप के दौरान कहा था, उसमें सफल होना और भारत में इसे जीतना, मुझे लगता है कि यह मेरे करियर की एक बड़ी उपलब्धि है। तो मैं आज मैं संन्यास लेने का निर्णय लूंगा, जिससे मुझे दुनिया भर में कुछ अन्य (ट्वेंटी20) लीगों में खेलने का मौका मिलेगा।” इसके अलावा वॉर्नर ने आगे कहा कि, “मुझे पता है कि 2025 में चैंपियंस ट्रॉफी होना है। अगर मैं दो साल के समय में अच्छा क्रिकेट खेल रहा हूं और मैं मौजूद हूं और उन्हें मेरी जरूरत है, तो मैं उपलब्ध रहूंगा।”

विवादों में रहा करियर

2018 में गेंद से छेड़छाड़ विवाद के बाद डेविड वार्नर का करियर खतरे में पड़ गया था। उन्हें आजीवन ऑस्ट्रेलिया टीम से प्रतिबंध झेलना पड़ा। उन्होंने कहा, ‘‘जब मैंने शुरूआत की थी तो टीम में मेरी भूमिका यही थी कि प्रतिद्वंद्वी टीम को उकसाऊं। पर ये शुरूआती दिन थे और पहली धारणा को बदलने का दूसरा मौका नहीं मिलता। लेकिन मैंने वह भरोसा फिर से बनाने की कोशिश की है।’’

वार्नर का क्रिकेट करियर

डेविड वॉर्नर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में महान रिकी पोंटिंग (27368) के बाद सभी प्रारूपों में 18612 रन के साथ ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे सफल बल्लेबाज के तौर पर खेल को अलविदा कहा। उन्होंने टेस्ट में 44.49 की औसत से 8786 रन बनाए, जिनमें 26 शतक और 37 अर्धशतक जड़े थे।

उन्होंने 161 वनडे में 45.30 की औसत से 6932 रन जोड़े जिसमें 22 शतक और 33 अर्धशतक शामिल रहे। वह पहले ही वनडे से संन्यास की घोषणा कर चुके हैं, लेकिन दुनिया भर में टी20 अंतरराष्ट्रीय और घरेलू टी20 लीग के लिए उपलब्ध रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here